मघा के बारे में

उद्देश्य

ऐसी वेब साइट और पत्रिका मघा का विकास जहाँ विविध विषयों के मानक तथ्य हिन्दी में उपलब्ध हों। प्रारम्भ में लक्ष्य रज्जु की ऊँचाई कम होगी जो क्रमश: उठान लेगी।

सामान्यत: प्रारम्भ प्रार्थना से किया जाता है। क्या करूँ? प्रकाश और ऊष्मा का आह्वान करती
एक कविता प्रस्तुत है।

धूप!
आओ, अंधकार मन गहन कूप
फैला शीतल तम। मृत्यु प्रहर
भेद आओ। किरणों के पाखी प्रखर
कलरव प्रकाश गह्वर गह्वर
भर दो विश्वास सबल।
तिमिर प्रबल माया कुहर
हो छिन्न भिन्न। सत्त्वर सुरूप
आओ। अंधकार मन गहन कूप
भेद कर आओ धूप।

इस लेख को साझा करने के लिए संक्षिप्त URL: