शून्य

शून्य वि। तुच्छम्। … शून्यं तु वशिकं तुच्छरिक्तके।
(अमरकोश)

‘शून्य’ [0] गणित में अब तक की सबसे सबसे बड़ी खोज है। उसके बिना दस आधार वाली भारतीय अंक पद्धति और अंको के स्थानिक मान की पद्धति संभव नहीं और उसके बिना आज के गणित और विज्ञान की कल्पना नहीं की जा सकती। यह अंकों और गणनाओं का युग है। अंको के बिना जीवन सोच पाना असंभव है। अगर हम अपने आस पास देखें तो ऐसी कोई चीज नहीं जो अंकों के बिना संभव हो, कुछ भी नहीं! और अंकों को इतना उपयोगी बनाने में सबसे बड़ा योगदान शून्य का है।

भारतीय परंपरा के अतिरिक्त इतिहास में अंकों की कई पद्धतियाँ रही हैं, रोमन, ग्रीक, हिब्रू इत्यादि, परन्तु सभी पद्धतियों में अंकों के लिए वर्णमाला के अक्षर प्रयुक्त होते थे। शून्य, स्थानिक मान की पद्धति और दशमलव जैसे सिद्धांत किसी भी और पद्धति में नहीं थे। शून्य के बिना न तो अंकों का निरूपण आसानी से हो सकता है न गणितीय संक्रियायें जिसके कारण रोमन अंकों की पद्धति में बड़ी संख्याओं को लिखना बहुत कठिन होता है और जोड़ घटाव लगभग असंभव।

आप ने कभी किसी पुराने ब्रिटिश कालीन भवन पर रोमन में लिखे निर्माण सन् का मान पता करने का प्रयास किया है?

रोमन पद्धति में ऋणात्मक संख्यायें, भिन्न, द्विघाती समीकरण, दशमलव अंक सोच पाना भी संभव नहीं! हमारे लिये यह सोच पाना भी कठिन है कि बिना शून्य और दस अंकों की पद्धति के संसार चलता कैसे था! यह कहना अतिशयोक्ति नहीं है कि आज से एक हजार वर्ष पहले कई देशों के मँझे हुये गणितज्ञ जो गणनायें कर पाते थे, उनसे अधिक आज की पाँचवी कक्षा के छात्र कर लेते हैं। एक लंबे समय तक कई सारे आविष्कार इसलिये नहीं हो पाये कि संसार के बहुत बड़े भाग में अंकों का विकसित तरीका नहीं था।

पश्चिमी सभ्यता की बात करें तो पीजा (Pisa) के एक वाणिज्यदूत बोनाची के पुत्र लिओनार्दो पिसानो को अपने पिता के साथ अल्जीरिया जाने का अवसर मिला। वहाँ उसे एक अरबी व्यापारी ने भारतीय अंक पद्धति से परिचय कराया। फिबोनाची, जिसका शाब्दिक अर्थ हुआ बोनाची-पुत्र, के लिए यह अद्भुत था! फिबोनाची को नयी अंक पद्धति में असीमित संभावनायें दिखीं। जो गणनायें रोमन अंक पद्धति में असंभव थीं उन्हें भारतीय अंक पद्धति से बड़ी सरलता से किया जा सकता था। वह इतना प्रभावित हुआ कि अगले कई वर्षों तक भूमध्य सागर के तट पर स्थित देशों का भ्रमण कर व्यापारियों से गणित सीखता रहा।
१२०२ ई. में फिबोनाची ने ‘लिबेर अबाचि’’ अर्थात ‘गणना की पुस्तक’ की रचना की। यह भारतीय अंक पद्धति से यूरोप का पहला परिचय था। फिबोनाची ने इस पुस्तक में मोडस इंडोरम  यानि भारतीय पद्धति का उल्लेख किया। यह शून्य सहित एक से नौ तक अंको की परंपरा और स्थानीय मान की विधि से अंको को लिखने की पद्धति थी। इस पुस्तक में फिबोनाची ने अंको की नयी पद्धति के साथ साथ इसके प्रयोग के व्यावहारिक उदाहरण भी दिये जिनमें व्यापारियों से सीखे गये हिसाब रखने के तरीके विशेष थे। इसी पुस्तक में एक प्रश्न के हल के रूप में गणित के विख्यात ‘फिबोनाची क्रम’ का उल्लेख भी था। इस क्रम का वर्णन इससे पहले विरहाङ्क (६००-८०० ई.), गोपाल (११३५ ई. के पहले) तथा हेमचन्द्र (११५० ई. के पहले) ने भी किया था। फिबोनाची क्रम को गणितज्ञ गोपाल-हेमचन्द्र नम्बर्स के नाम से भी जानते हैं। जैन विद्वान और दार्शनिक हेमचन्द्र को कलिकाल सर्वज्ञ भी कहते हैं।  वैसे तो फिबोनाची के परिचय के बावजूद लगभग दो सौ वर्षों तक यूरोप में अंको की भारतीय पद्धति पूरी तरह प्रचलित नहीं हुई, पर विज्ञान में आविष्कारों की गति को इस परिचय से अधिक गति इतिहास के किसी परिचय ने नहीं दी। फिबोनाची को इस परिचय और अध्ययन के लिए मध्यकालीन यूरोप का सबसे प्रतिभासम्पन्न गणितज्ञ माना जाता है।

शून्य का प्रयोग भारत में सदियों पहले से था। कई सन्दर्भों को नकारने वाले लोग भी यह मानते हैं कि कम से कम ५०० ई. तक भारत में शून्य का प्रयोग होने लगा था। इनमें सबसे प्रमुख नाम आता है आर्यभट का, जिन्हें हम शून्य का आविष्कारक भी कहते हैं जो कि सच नहीं है। आर्यभट ने शून्य का लिखित वर्णन किया है। शून्य के लिए ‘ख’।

‘आर्यभटीय’ पर भास्कर की टीका से लिया गया अंश

परन्तु उससे पहले कई सन्दर्भों में शून्य का वर्णन आया है। ऋग्वेद में रथचक्र की धुरी के गोलाकार छिद्र और विवर के लिये ‘ख’ के प्रयोग कुछ विद्वानों ने इंगित किये हैं। खुले भूदृश्य में रात में गोलाकार दिखता आकाश भी बाद में ‘ख’ कहलाया। यजुर्वेद की तैत्तिरीय शाखा मेंं दाशमिक प्रणाली के स्पष्ट वर्णन हैं जिनमें क्रमश: दस गुना करते हुये परार्द्ध 1012  जितनी संख्या तक की गणना बताई गई है:

कृष्ण यजुर्वेद, तैत्तिरीय शाखा, 4.4.11

ऋग्वेद और अथर्ववेद के गणना और संख्या विषयक प्रयोग स्वतंत्र आलेख के योग्य हैं। ‘ख’ और शून्य के अन्य आर्यभटपूर्व प्रयोग हैं: पिंगल  के छंदशास्त्र में (लगभग ४०० ई पू, मान्यताओं के अनुसार पिंगल प्रसिद्ध व्याकरणाचार्य महर्षि पाणिनि के भाई थे), बृहदारण्यक उपनिषद् में, शतपथ ब्राह्मण में और अमरकोश में – शून्यं तु वशिकं तुच्छरिक्तके।

शून्य की परिकल्पना सबसे पहले भारत में होने का बहुत बड़ा कारण है – गणित का अध्ययन वेदांग के रूप में होना। अंकों का आविष्कार वस्तुओं को गिनने के लिए हुआ। पर शून्य और उसकी परवर्ती ऋणात्मक संख्यायें गणित के पहले अमूर्त रूप हैं, पहली गणितीय काल्पनिकता – ‘शुद्ध गणित’। गणित में होने से पहले दार्शनिक दृष्टि से शून्य की चर्चा भारतीय ग्रंथों में कई बार आयी है। शून्यता अर्थात  बृहदारण्यक उपनिषद का ‘ॐ  खं ब्रह्म’। ख, शून्य, अम्बर, रिक्त, अभाव, तुच्छ, बिंदु इत्यादि शब्दों का प्रयोग शून्य के संकेत 0 के बहुत पहले से होता रहा। आर्यभट के बाद ब्रह्मगुप्त, महावीर और भास्कर ने शून्य को न केवल गणितीय रूप से परिभाषित किया बल्कि इससे जुड़े प्रश्नों के उत्तर भी दिये, एक तरह से देखें तो भारतीय दर्शन के सिद्धान्तों को अङ्कों में लिख दिया!

भारतीय गणितीय परंपरा की एक कठिनता रही उसका संस्कृत श्लोकों के रूप में लिखा जाना। संभवतः श्रुति की परंपरा से गणितीय सिद्धांतों और सूत्रों की रचना कम शब्दों में और स्मृतिसुगम हो जाने वाले संस्कृत श्लोकों के रूप में की गयी, जिनका बाद में अर्थ निकालना कठिन होता गया।


अगले अङ्कों में:
शून्य का वेदांग दर्शन से गणितीय रूप में विकास, वेदांग और खगोलीय गणनाओं में बड़े अंको का प्रयोग,आर्यभट, ब्रह्मगुप्त, महावीर और भास्कर की शून्य की परिभाषा. शून्य की परिभाषाओं पर भारतीय दर्शन के अभाव (कणाद), शून्यवाद (नागार्जुन), ख (उपनिषद्), शून्यता (बौद्ध महायान) के सिद्धांतों का प्रभाव. शून्य से विभाजन की समस्या और अनंत/लिमिट के सिद्धांत का प्रतिपादन.

लेखक: अभिषेक ओझा

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर से
गणित और संगणना में समेकित निष्णात।
न्यूयॉर्क में एक निवेश बैंक में कार्यरत। जिज्ञासु यायावर।
गणित, विज्ञान, साहित्य और मानव व्यवहार में रूचि।
ब्लॉग:http://uwaach.aojha.in ट्विटर: @aojha

 

इस लेख को साझा करने के लिए संक्षिप्त URL:

8 thoughts on “शून्य

  1. Dushyant P Thakkar

    One of the best posts , I have seen.
    Great
    Looking forward to seeing more and more .
    Thank you so much.

    Reply
  2. Alankar Sharma

    ज्ञानदायक और गर्व का अनुभव कराने वाला आलेख है । विरहांक और Fibonacci के बारे में पढ़ा था पर Fibonacci भारतीय अंक पद्धति अरबियों से सीखा था, ये नहीं पता था ।

    उल्टा शिष्य गुरु को डांटे – पश्चिम पूर्वोत्तर सम्बन्ध ☺

    लिखते रहिये ओझा जी !

    Reply
  3. सुभाष

    ओझा जी का योगदान मघा की महिमा को और बढ़ाएगा।

    Reply
  4. Astrologer Sidharth

    बहुत सधा हुआ लेख, ओझाजी का तो हर अंक में एक लेख जरूर होना चाहिए। गणित के प्रति रुचि नए सिरे से पैदा होती है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *