Author Archives: अलङ्कार शर्मा

नवसंवत्सरोऽयं

अद्य नवसंवत्सर पर्वः अस्ति तर्हि संवत्सर ज्ञानं अपेक्षते वा ? आम् ? सम्यक् अस्ति।

सामान्यतया अस्माकं भारत देशे कार्यालयेषु, वित्तकोषेशु , विद्यालयेषु सामान्यजनाः व्यवहारे ख्रीष्ट वर्षपदः उपयुज्यते। अयं ख्रीष्ट वर्षपदः वस्तुतः पोप ग्रेगरी१२ महाभागात् प्रवर्तयत स्म तर्हि ग्रेगोरिअन दिनदर्शिका नाम्ने प्रसिद्धा जाता। अयं वर्षपदः नाति प्राचीनः अपितु १५८२ ख्रीष्टाब्दे प्रस्ताविता अभवत्। अयं वर्षपदः सूर्यस्य परितः पृथिव्याः परिक्रमणे अधारितः अतः सूर्य वर्षपदः। एक सौरवर्षे ३६५ दिवसाः तथा कतिचन घन्टानि भवन्ति। लौकिकतया अधुना २०१७ ख्रीष्टाब्दः चलति। ख्रीष्ट दिनदर्षके वारः दिनाङ्कः च द्वौ अङ्गौ कल्पितवतौ।

परन्तु ग्राम्य व्यवहारे, शस्य कृषिकर्मणे, धार्मिक कर्मकाण्डे, व्यापारिक विनिमये च भारतीय विक्रम संवत्सरस्य मान्यता अस्ति। विक्रमसंवत्सरोऽयं उज्जयिन्याः चक्रवर्ती सम्राट महाराज विक्रमादित्यस्य शकक्षत्रपाणामुपरि विजयोपलक्ष्ये प्रारम्भ अभवत्। भारतीय दिनदर्षकः पञ्च अङ्गकः अतः भारतीय पन्चाङ्गः नाम्नेन प्रसिद्धः। पञ्चाङ्गस्य पञ्च अङ्गानि एतानि – तिथिवारनक्षत्रकरणयोगश्च। प्रत्येक दिवसे कश्चित्  तिथिः, कश्चित् वारः, कश्चित्  नक्षत्रः, कश्चित्  योगः करणश्च भविष्यति इति सूचनां क्षणेनैव प्राप्तुं शक्नुमः भारतीय पञ्चाङ्गात्। प्रायः प्रत्येक योगे (कस्मिन् २-३ अङ्गानां संयोजने) कतिपय विशिष्ट स्थिति भवति तथोपरि कश्चित् धार्मिक कृत्य, वातावरणः (शीतः, उष्णः, वर्षा) निर्दिष्टा। अस्य विक्रमसंवत्सरस्य प्रारम्भः ५६ ई.पू. तमे वर्षे जातः, अद्य  विक्रम संवत २०७४ प्रारम्भः अभवत् अयं साधारण नाम संवत्सरः। आम् प्रत्येकस्य संवत्सरस्य नामः अपि भवति। भारतीय पञ्चाङ्गः सूर्यचन्द्रयोर्गतिराधारेण निर्मितः तिथ्यादि चन्द्राधारितः तथा वर्षमानः सूर्याधारेण चलति।

भारतसर्वकारेण मान्यताप्राप्त शकसंवत्सरः अपर नामः शालिवाहन शक संवत्सरः भारतीय राष्ट्रिय दिनदर्शकः। अस्य प्रारम्भः ७८ ई. वर्षे जातः तथा वर्तमाने शकवर्षः १९३९ प्रचलति। भारतसर्वाकारेण राजपत्र, अधिसूचना, सूचना प्रकाशने शकसंवत्सरस्यैव प्रयोगः क्रियते। वित्तकोषाः अपि शकसंवत्सर लिखिता धनादेशः स्वीक्रियन्ते।

विभिन्न भारतीय वर्षमानाः निम्नलिखिताः सन्ति –

सृष्टितो गताब्दाः – १९५५८८५११८
श्री राम-रावण युद्धतो गताब्दाः – ८८०१५९
श्रीकृष्णावतारतो गताब्दाः – ५२४३
गत कलियुग वर्षाणि – ५११८
विक्रम संवत्सर – २०७४
शालिवाहनशक संवत्सर – १९३९


अनुवाद : यह नवसंवत्सर

आज नवसंवत्सर पर्व है तो क्या संवत्सर के बारे में जानें ? हाँ ? तो ठीक है।

सामान्यतया हमारे भारत देश में कार्यालयों, बैंकों, विद्यालयों में सामान्यजन व्यवहार में क्रिश्चियन कैलंडर का प्रयोग करते हैं। यह कैलंडर वस्तुतः पोप ग्रेगोरी 12 द्वारा चलाया गया था इसीलिये यह ग्रेगोरियन कैलंडर के नाम से प्रसिद्ध हो गया। यह कैलंडर बहुत पुराना नहीं है अपितु वर्ष १५८२ में प्रस्तावित हुआ था। यह कैलंडर पृथ्वी के सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करने पर आधारित है अतः सूर्य कैलंडर है। एक सौर वर्ष में ३६५ दिन और कुछ घंटे होते हैं। लौकिक गणना से अब २०१७ ग्रेगोरियन वर्ष चल रहा है। ग्रेगोरियन कैलंडर में दिन और दिनांक दो अंग कल्पित हैं।

परन्तु ग्रामीण व्यवहार में, फसल और खेती के काम में, धार्मिक कर्मकांड और व्यापारिक सौदों में भारतीय विक्रम संवत्सर की मान्यता है। यह विक्रम संवत्सर उज्जैन के चक्रवर्ती सम्राट महाराज विक्रमादित्य द्वारा शक छत्रपों पर विजय के उपलक्ष्य में प्रारम्भ हुआ था। भारतीय कैलंडर पांच अंगों वाला है अतः यह भारतीय पञ्चांग के नाम से प्रसिद्ध है। पञ्चांग के पांच अंग ये हैं – तिथि, वार, नक्षत्र, कारन और योग। प्रत्येक दिन कोई तिथि, कोई वार, कोई नक्षत्र, कोई योग और करण होगा इसकी सूचना क्षणमात्र में भारतीय पञ्चांग से पता लग सकती है। प्रायः प्रत्येक योग (किन्हीं 2-3 अंगों के मिलने से) कोई विशिष्ट स्थिति होती है और उसके अनुसार कोई धार्मिक कृत्य, वातावरण (सर्दी, गर्मी, बारिश) का निर्देश है। इस विक्रम संवत्सर का प्रारम्भ ५६ ई.पू. वें वर्ष में हुआ था, आज विक्रम संवत्सर २०७४ प्रारम्भ हुआ है, इस संवत्सर का नाम साधारण है। हाँ, प्रत्येक संवत्सर का नाम भी होता है। भारतीय पञ्चांग सूर्य-चन्द्रमा की गति के आधार पर निर्मित है, तिथि आदि चन्द्रमा की गति पर और वर्ष सूर्य के आधार पर चलता है।

भारत सरकार से मान्यताप्राप्त शकसंवत्सर और दूसरा नाम शालिवाहन शक संवत्सर भारतीय राष्ट्रीय कैलंडर है। इसका प्रारम्भ ७८ ई. वें वर्ष में हुआ था तथा वर्त्तमान में शक्वर्ष १९३९ चल रहा है। भारत सरकार राजकीय गजट, अधिसूचना, सूचना प्रकाशन करने में शक संवत्सर का ही प्रयोग करती है। बैंक भी शक संवत्सर लिखे चेक स्वीकार करते हैं।

विभिन्न भारतीय वर्षों के मान निम्नलिखित हैं –

सृष्टि से गत वर्ष – १९५५८८५११८
श्री राम-रावण युद्ध से गत वर्ष – ८८०१५९
श्रीकृष्णावतार से गत वर्ष – ५२४३
कलियुग के गत वर्ष – ५११८
विक्रम संवत्सर – २०७४
शालिवाहनशक संवत्सर – १९३९



लेखक: अलंकार शर्मा

शिक्षा: गणित स्नातक, स्नातकोत्तर कंप्यूटर विज्ञान,
आचार्य – फलित ज्योतिष

संयोजन: पं. बैजनाथ शर्मा प्राच्य विद्या शोध संस्थान का कार्यभार
सम्पादक: प्राच्य मञ्जूषा

 

ऋतूनां कुसुमाकरः!

श्रीमद्भावद्गीतायां श्रीकृष्णस्य मुखारविन्देन निर्गता संदेशोस्ति ऋतूनां कुसुमाकरः, सः स्वयमेव कुसुमाकरः-वसन्तः-ऋतुराजश्च। भारतीय वाङ्ग्मये ऋतूनां वर्णने वसन्त ऋतोः वर्णनं महत्वप्रतिपादनन्च अपेक्षाकृतः अधिकः। वासंतिककालेस्मिन् सर्वत्र प्रकृतेः मनोहारि दर्शनं भवति मन प्रफुल्लित भवतीति। वने-उद्याने-फलारामे सर्वत्र मनोहारि विभिन्न वर्णानां सुन्दराणि पुष्पाणि-फलानि विकसन्ति, तेषां सौन्दर्येण नीरस जनानामपि चित्तं आह्लादयन्ति। क्वचित् पुष्पाणि तेषां सुगन्धेन क्वचित् तेषां मनोहारि स्वरुपेण आकर्षयन्ति जनानाम्। पुष्पैव वृक्षाणां लतानां वा पुनरोत्पदक बीजानां निर्माणं प्रसारपि कुर्वन्ति अतः वसन्तस्य एकः नामः कुसुमाकरः। न केवलं वृक्ष-लता-पुष्प-फल अपितु कोकिला, मयूराः तथा अन्यान्य खगाः कलरवं कुर्वन्ति आनन्देन कूजन्ति च एतस्मिन् काले।
प्रायः प्रत्येक संस्कृत ग्रन्थे ऋतुवर्णनं प्राप्यन्ते, वसन्तेस्मिन किमर्थं संस्कृत कवीनां वसन्तरसं न श्रवणीयम्:
वाल्मीकीये रामायणे किष्किन्धाकाण्डे रामलक्ष्मणौ ऋष्यमूक पर्वत मार्गे स्थित पम्पा सरोवरे वसन्त समये प्राप्तौ। वैदेही रावणेन अपहृता, तर्हि रामः शोकसन्तप्तः जातः। महर्षि वाल्मीकि, शोकातुररामस्य मुखारविन्देन वर्णनं करोति –
सुखानिलोऽयं सौमित्रे कालः प्रचुरमन्मथः।
गन्धवान्सुरभिर्मासो जातपुष्पफलद्रुमः॥ 4.1.10॥
-हे सौमित्र (लक्ष्मण)! अस्मिन् काले मन्मथः प्रचुरः अस्ति (तर्हि) सुखकर्त्री अनिलः वहति। अनिलः पुष्प-फल-वृक्षाणां सगन्धा जाता अस्मिन् सुरभिमासे (वसन्ते)।
पश्य रूपाणि सौमित्रे वनानां पुष्पशालिनाम्।
सृजतां पुष्पवर्षाणि तोयं तोयमुचामिव॥ 4.1.11॥
-हे सौमित्र ! पश्य पुष्पवान वृक्षाः पुष्पवर्षाम् कुर्वन्ति यथा (वर्षाकाले) जलपूर्ण मेघात् जलं वर्षति।
अमी पवनविक्षिप्ता विनदन्तीव पादपाः।
षट्पदैरनुकूजन्तो वनेषु मधुगन्धिषु॥ 4.1.18॥
-एताः वृक्षाः वात-विक्षेपेन गुञ्जन्ति, वने च भ्रमराः मधुगन्धिताः कूजन्ति।
अहा ! कवेः भावचित्रः वसन्तसौन्दर्य वर्णने अद्भुता जाता, परन्तु न केवलं सौन्दर्ये, वसन्त ऋतौ मानव मनोऽपि कामभावेन परिपूर्णः भवति। इयं चर्चायां यदि महाकवि कालिदासस्य चर्चा न भवति इत्यसंभवः। महाकवि अपि वसन्त वर्णने स्त्रीणां सज्जामनोदशाच वर्णयति:
कुसुम्भरागारुणितैर्दुकूलैर्नितम्बबिम्बानि विलासिनीनाम् ।
तन्वंशुकैः कुङ्कुमरागगौरैर्अलङ्क्रियन्ते स्तनमन्डलानि ॥
-कुसुम्भस्य रागेण रक्ता विलासिनीनां नितंबबिम्बानि विलासिनीनां वस्त्रैः कूलन्ति, रक्त्गौर कुङ्कुमकेसर रागेण (विलासनीनां) स्तन्मण्डलस्य अलङ्करणं क्रियन्ते।
स्तनेषु हाराः सितचन्दनार्द्राः भुजेषु सङ्गं वलयाङ्गदानि ।
प्रयान्त्यनङ्गातुरमानसानां नितम्बिनीनां जघनेषु काञ्च्यः॥
-(विलासनीनां) श्वेतचन्दनै आर्द्राः स्तनेषु मुक्ताहाराः, बाहुषु कटककेयूराणि सुशोभिताः। कामभावेन पीडितं तासां नितंबनीनां जङ्घा प्रदेशे काञ्च्यः सङ्गः प्राप्नुवन्ति।
उच्छ्वासयन्त्यः श्लथबन्धनानि गात्राणि कंदर्पसमाकुलानि ।
समीपवर्तिष्वधुना प्रियेषु समुत्सुका एव भवन्ति नार्यः॥
-वसन्तकाले निकतस्थेषु प्रियेषु उत्कण्ठायां, तेषां गात्राणि शिथिलबन्धना जाता, ते कामपीडिता श्वासोच्छ्वासं कुर्वन्ति।
कुन्दैःसविभ्रमवधूहसितावदातैः उद्योतितान्युपवनानि मनोहराणि ।
चित्तं मुनेरपि हरन्ति निवृत्तरागमं प्रागेव रागमलिनानि मनांसि यूनाम्॥
-विभ्रमसहितानि रमणीहास्यानि, मनोहारि उपवनानि, रागेण निवृत्ता जाता मुनेरपि चित्तं अपहरन्ति, तेषां मनान्सि रागेण मलिना भवन्ति।
शृङ्गारशतके भर्तृहरि अपि वदति वसन्तमहिमा-
पान्थस्त्रीविरहानलाहुति कथा मातन्वतीमञ्जरी, माकन्देषु पिकाङ्गनाभिरधुना सोत्कण्ठमालोक्यते।
अप्येते नवपाटलापरिमलप्राग्भारपाटच्चरा, वान्ति क्लान्तिवितानतानवकृताः श्रीखण्डशैलानिलाः॥
-अहो ! वसन्तकालेस्मिन् पथिकानां विरहिणां वियोगाग्निं प्रज्वलिता मञ्जरी, आम्रवृक्षेषु उत्कण्ठापूर्णा कोकिला अवलोक्यति। मलयाचल पवन नवीन पलाश पुष्पगन्ध सहिता मार्गश्श्रमः हरति।
वृहद्संस्कृतवाङ्ग्मये ऋतुराजवसन्तप्रयोगाः प्रचुराः, तेन पठने-पाठने कामोद्दीपनं जायते अतः सावधानतया सुस्थिर मनसा तेषु पठनीयम् 🙂 यद्यपि ‘श्रीर्हरति मुनेरपि मानसं वसन्तः’।
विकसितसहकारभारहारिपरिमलपुञ्जितगुञ्जित द्विरेफ:।
नवकिसलयचारुचामरश्रीर्हरति मुनेरपि मानसं वसन्तः॥



लेखक: अलंकार शर्मा

शिक्षा: गणित स्नातक, स्नातकोत्तर कंप्यूटर विज्ञान,
आचार्य – फलित ज्योतिष

संयोजन: पं. बैजनाथ शर्मा प्राच्य विद्या शोध संस्थान का कार्यभार
सम्पादक: प्राच्य मञ्जूषा