विमुद्रीकरण (Demonetisation) – अंतिम भाग

पहले भाग से आगे …  अभिषेक ओझा विमुद्रीकरण: भ्रष्टाचार, काला धन और जाली नोट को ख़त्म करने के लक्ष्य को लेकर भारत सरकार ने गत आठ नवम्बर की अर्द्धरात्रि से ₹५०० और ₹१००० के नोटों की वैधानिकता समाप्त कर दी। सबसे पहली बात यह कि यह नवीकरण (करेंसी स्वैप)  है, यानि कि पुराने नोट ख़त्म नहीं…

विमुद्रीकरण (Demonetisation) – 1

अभिषेक ओझा  ‘विमुद्रीकरण’ समझने के लिये पहले समझते हैं उन बातों को जिनसे उस पर किये जा रहे विश्लेषण और दिए जाने वाले तर्कों को समझने में आसानी होगी।   अर्थशास्त्र:  अमेरिकी  राष्ट्रपति हेनरी ट्रूमैन ने अर्थशास्त्रियों से परेशान होकर कहा था,”मुझे एक हाथ वाला अर्थशास्त्री चाहिए. जितने अर्थशास्त्री हैं वे कहते हैं ऑन वन हैण्ड… फिर कहते…

जाली मुद्रा (FICN) का अर्थशास्त्र: तंत्र, संकट तथा सामाजिक प्रभाव

लेखक: श्री यशार्क पाण्डेय  __________________ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा हजार व पाँच सौ के नोटों के विमुद्रीकरण से सबसे तगड़ा प्रहार जाली मुद्रा तथा आतंक के व्यवसाय पर हुआ है। एक अनुमान के अनुसार बैंक तथा सुरक्षा एजेंसियाँ कुल जाली मुद्रा का केवल 30प्रतिशत ही पकड़ पाती हैं। पाकिस्तानी संस्था आईएसआई (Inter-Services Intelligence)  भारत…

अमात्य नियुक्ति : कौटलीय अर्थशास्त्र (विनयाधिकारिक)

कौटल्य इस पर विचार करते हैं कि राजा किसे अमात्य नियुक्त करे। उनके समय अमात्य और मंत्री (अमात्यसंपत) दो भिन्न पद थे और मंत्री का स्थान अधिक ऊँचा था। मंत्री बहुत अधिक महत्त्वपूर्ण पद था और सामान्यत: एक ही होता था। कौटल्य ने मंत्री के लिये सर्वविद्या गुण सम्पन्न होना अनिवार्य माना है और पुरोहित…

मनु स्मृति में यात्रा – 4 (वृषली फेन और नि:श्वास)

भाग 1, 2 और 3 से आगे:  __________________________________________ निवेदन है कि इस लेखमाला को पहले भाग से क्रमानुसार ही पढ़ा जाय।  __________________________________________ मनु स्त्री के लिये गुरु के आश्रम में रह कर शिक्षा प्राप्त करने की कोई व्यवस्था नहीं सुझाते हैं। शिक्षा समाप्ति के पश्चात समावर्तन (घर वापसी), भार्या चयन और तत्पश्चात दारकर्म (विवाह उपरांत…

मनु स्मृति में यात्रा – 3 (शूद्र जुगुप्सित)

पहला भाग, दूसरा भाग     … अब आगे ______________________________________ शूद्रों के प्रति पहला कथित निन्दनीय भाव मनुस्मृति के दूसरे अध्याय के 31 वें श्लोक में मिलता है। प्रकरण विभिन्न वर्ण-जातकों के नामकरण से सम्बन्धित है। सातत्य और नैरंतर्य पर विचार के लिये क्र. 30 से 33 तक के श्लोक यहाँ दर्शाये गये हैं। पहले ऋग्वेद की एक…

ज.ने.वि. का अंत:पुर – 1

JNU ज.ने.वि. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में कुल 14 संस्थान हैं जिन्हें School कहा जाता है। इन संस्थानों के भीतर एकाधिक केन्द्र हैं। प्रारम्भ करते हैं ‘भारतीय भाषा केन्द्र’ से। इस केन्द्र की निम्न विशेषतायें हैं: (1) इस केन्द्र में कुल छ: आचार्य हैं।   (2) 2010-11 से 2014-15 के बीच पाँच वर्षों में यहाँ के…