Hindu wedding marriage

Arranged Marriage Love Marriage ब्रह्म विवाह प्रेम विवाह : सनातन बोध – 39

विवाह का निर्णय युवाओं का, परंतु एक माता-पिता अपने बच्चों को भली भाँति जानते हैं। We have a very romantic view of marriage. Theirs is more pragmatic.

Perception and Reality अनुभूति व वास्तविकता : सनातन बोध – 38

क्या अनुभूतियाँ (perception) स्थिर न होकर देश, काल और परिस्थिति के अनुसार परिवर्तनशील होती हैं? जीवन में कभी चरम सौन्दर्य एवं अतिप्रिय लगने वाले उपादान भी क्या कभी कालान्तर में हमें व्यर्थ प्रतीत हो सकते हैं?

Ego Self-centeredness Selflessness अहम, आत्मविमोहता एवं नि:स्वार्थता : सनातन बोध – 38

मनोवैज्ञानिक इसे मानसिक व्याधियों से जोड़ते हैं, प्रमुख हैं – व्यग्रता (anxiety) एवं अवसाद (depression), सबका केंद्र –आत्म आसक्ति जिसकी जड़ – अहम (ego) !

Find your passion! Is it so? उत्कट कामना, जीवन सिद्धि? : सनातन बोध – 37

Find your passion! Is it so? हमें अपनी एक विशेष रुचि ‘पैशन’ ढूंढना होता है या फल की इच्छा बिना कर्म करना होता है। नए शोध सनातन दर्शन की ओर झुकते दिखाई पड़ते हैं।

अनासक्ति व प्रेम सम्बन्ध Detachment and Relationship : सनातन बोध – 36

अनुकम्पा और मोह से अनासक्त हो वस्तुनिष्ठ होने की बात है। भ्रान्ति से परे सम्बन्‍धों और संसार को समझने की बात है, सुखमय प्रेम और दाम्पत्य के लिए ।

Sanaatan Emerges as Science Moves On, Painful for the Scientist? सनातन को प्रकट करते नवीन अनुसंधान

Post Modern Science Discoveries Resemblance to Sanaatana Knowledge. Is it Painful for Scientist? “…the main influence (on my work) is coming from Indian philosophy. I don’t know why. When I read it, I see that it very strongly fits into some quite modern schemes which appear in cosmology. …Many centuries before Greek philosophy appears, there were clever people who were just sitting and thinking — a lot of schools of people with very deep and profound thinking.” says Prof. Andrei Dmitriyevich Linde.

Cruel to Be Kind हितकर कठोरता : सनातन बोध – 35

संसार में कुछ भी आनन्‍ददायक तब तक नहीं, जब तक हम उसमें पारङ्गत नहीं हो जाते और किसी भी विषय में पारङ्गत होने के लिए कठिन परिश्रम आवश्यक है।