Polluted rivers and रस-रक्त दुष्टि

Death of civilization “If there will be water after our gross disrespect by water usage (by inefficient agriculture, unwanted industry usage, faulty management, deforestation), that water will be sheer poison due to excess use of fertilizers.” What do you expect from a polluted rivulet or river? Foster mother like nurturance? My dear friend, come out of…

समय प्रबंधन के कुछ सूत्र time management – एक दिन में 40 घण्टे का काम कैसे करें

समय प्रबंधन के कुछ सूत्र – एक दिन में 40 घण्टे का काम कैसे करें समय प्रबंधन पर आलेख लिखने में एक ही बाधा थी, समय की बाधा। कुछ भी करने के लिये समय एक सामान्य आवश्यकता है। आप कितने भी समृद्ध, कुशल, महान, या प्रसिद्ध हो जायें, समय का कोष सीमित ही रहता है।…

सुख का अर्थशास्त्र happiness economics : सनातन बोध – 18

सुख का अर्थशास्त्र happiness economics : सकल घरेलू उत्पाद (GDP) और सकल राष्ट्रीय उत्पाद (GNP) की भाँति सकल राष्ट्रीय सुख (gross national happiness) के आधार पर नीति निर्माण के तर्क भी दिए जा रहे हैं। ये अध्ययन पारम्परिक अर्थशास्त्र के लिए चुनौती हैं क्योंकि इन अध्ययनों के निष्कर्ष पारम्परिक पश्चिमी अर्थशास्त्र के भौतिक सुख-साधनों के स्थान पर…

पुराणों में क्या है – 1 : विष्णु दशावतार तथा बुद्ध – 2 [मार्कण्डेय, वामन, कूर्म]

कलियुग के लक्षणों को गिनाते हुये इस पुराण में शुक्लदंताजिनाख्या, मुण्डा, काषायवासस: पद प्रयुक्त हुये हैं जिन्हें स्पष्टत: बौद्ध मत का परोक्ष उल्लेख कहा जा सकता है:

अट्टशूला जनपदाः शिवशूलाश्चतुष्पथाः  । प्रमदाः केशशूलिन्यो भविष्यन्ति कलौ युगे  ॥
शुक्लदन्ताजिनाख्याश्च मुण्डाः काषायवाससः  । शूद्रा धर्मं चरिष्यन्ति युगान्ते समुपस्थिते  ॥