पङ्क पड़ी परम्परा का आर्तनाद

भारत में अभियाननाद नहीं, आर्तनाद ही चल रहा है। भारतविद्या एवं भारत की उन्नति के इच्छुक गम्भीर युवाओं को इन सब प्रवृत्तियों से मुक्त हो कर्मसंलग्न होना होगा। हम मिथ्या गौरवबोध में जीने को आतुर हैं, वह हमारा अंग बन चुका है। पुरातन का अध्ययन, उनका वैज्ञानिक एवं सत्यनिष्ठ विश्लेषण तथा आक्रमणों के सटीक उत्तर, ये सब होने चाहिये किंतु उसके स्थान पर हो क्या रहा है?

आमुख
White-Breasted Waterhen जलमुर्गी। चित्र सर्वाधिकार : आजाद सिंह, © Ajad Singh, सरयू आर्द्र भूमि, माझा, अयोध्या, फैजाबाद, उत्तर प्रदेश, May 28, 2019

White-Breasted Waterhen जलमुर्गी

White-Breasted Waterhen जलमुर्गी यहाँ की बारहमासी चिड़िया है, देश से बाहर नहीं जाती है।स्वभाव से लज्जालु यह किञ्चित आहट से ही भाग कर झाड़ियों में छिप जाती है।

पढ़ें

सामाजिक संचार माध्यम, सुविधा या जटिलता : सनातन बोध – 55

सनातन दर्शनों की विशेषता यही है कि मानव मस्तिष्क की जो विवेचना उसमें की गयी है वो विभिन्न देश, काल एवं परिस्थिति के अनुसार भी सत्य है। यथा सभा का स्वरूप भले परिवर्तित हो गया हो परन्तु उस सभा में कब क्या बोलना चाहिए, किससे प्रेम करना चाहिए तथा कब और कितना क्रोध करना चाहिए जो इन बातों को जानता है उसे ही तो अब भी पंडित कहा जाएगा

पढ़ें

Basic features of Youtube यूट्यूब की कुछ सुविधाएँ

यूट्यूब की कुछ सामान्य सुविधाएँ जो लगभग हमारे सामने ही होती हैं परन्तु या तो हम उनकी उपेक्षा कर जाते है या जानकारी के अभाव में हम उपयोग नहीं कर पाते हैं। इस लेख में मैं ऐसी ही सुविधाओं की बात करूँगा।

पढ़ें

श्रीमान् उपाध्याय एवं मिस्टर स्मिथः : सरल संस्कृत – ४

इस लेख में सरल लेखन की वाक्य संरचना का प्रदर्श है। साथ में दिये हिंदी अनुवाद के संगत वाक्यों से तुलना कर इन दो भाषाओं के परस्पर सम्बन्ध एवं भिन्नताओं को देखा जा सकता है।

पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Post comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.