Mahāmṛtyuñjaya Mantrā महामृत्युञ्जय मंत्र Markandeya Rishi, Lord Shiva and Yamraj, Raja Ravi Verma Painting

Mahāmṛtyuñjaya Mantra महामृत्युञ्जय मंत्र

त्र्य॑म्बकं यजामहे सु॒गन्धिं॑ पुष्टि॒वर्ध॑नम् । उ॒र्वा॒रु॒कमि॑व॒ बन्ध॑नान्मृ॒त्योर्मु॑क्षीय॒ मामृता॑त् ॥ तीन अम्बक वाले (सूर्य, चन्द्र, अग्नि नेत्र वाले, या जिसकी अम्बिका स्त्री हैं) की पूजा करते हैं, जो सुगन्ध या दिव्य गन्ध युक्त है तथा पुष्टि साधनों की वृद्धि करता है। जैसे ककड़ी का फल पकने पर स्वयं टूट जाता है, उसी प्रकार मृत्यु द्वारा शरीर से मुक्त हो जायेंगे, पर अमृत से हमारा सम्बन्ध नहीं छूटता।

पढ़ें
श्राद्ध और सम्बन्धी

श्राद्ध और सम्बन्धी

श्राद्ध और सम्बन्धी – हम पितरों को कृष्णतिल एवं पयमिश्रितजल अर्पण करते हैं। एक गृहस्थ द्वारा षोडश दिवसपर्यन्त नित्य तर्पण किया जाना चाहिए।

पढ़ें
Emerald Dove (Male) पन्ना कबूतर हरित कपोत (नर)। चित्र सर्वाधिकार: आजाद सिंह, © Ajad Singh, कतर्निया वन्यजीव अभयारण्य उत्तर प्रदेश, निशंगाराह मार्ग, बहराइच - 271855, उत्तर प्रदेश, April 08, 2018

Emerald Dove पन्ना कबूतर हरित कपोत

पन्ना कबूतर अपने नाम के अनुरूप ही पन्ना जैसा कान्तिमान हरित वर्ण का होता है। यह भारतीय राज्य तमिलनाडु का राज्य पक्षी है। श्रीलङ्का में इसकी एक दूसरी प्रजाति Chalcophaps robinsoni पाई जाती है।

पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Post comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.