ज्येष्ठ अमावस्याङ्क, 2074 वि., [वर्ष-2, अङ्क-9], गुरुवार

अवधी चिरइयाँ : करांकुल (Pseudibis papillosa)

वैज्ञानिक नाम: Pseudibis papillosa हिन्दी नाम: करांकुल, कालाबाझ संस्कृत नाम: कृष्ण आटी, रक्तशीर्ष अंग़्रेजी नाम: Indian Black Ibis, Black Ibis चित्र स्थान और दिनाङ्क: सरयू का कछार क्षेत्र, अयोध्या, 09/04/2017 छाया चित्रकार (Photographer): आजाद सिंह Kingdom: Animalia Phylum: Chordata Class: Aves Order: Pelecaniformes Family: Threskiornithidae Genus: Pseudibis Species: Papillosa Category: ...
पूरा लेख पढ़ें

सनातन बोध : प्रसंस्करण, नये एवं अनुकृत सिद्धांत – 3

बुद्ध का बोध : बुद्ध दुःख को निश्चित मानते हैं। दुःख किसी पाप का परिणाम नहीं बल्कि संसार का नियम है। दुःख का कारण भी विकासवाद के स्वार्थ की ही तरह इच्छा है। सनातन बोध : प्रसंस्करण, नये एवं अनुकृत सिद्धांत - 1   और 2 से आगे  ... विकासवादी मनोविज्ञान ...
पूरा लेख पढ़ें

पंथ निरपेक्षता और संविधान

सेकुलरिज्म और संविधान (Secularism and Constitution) भारतीय संविधान सेक्युलर ( Secular, भारतीय अनुवाद 'पंथ-निरपेक्ष') है या नहीं ? यह प्रश्न सार्वजनिक विमर्श का विषय रहा है। भारतीय संविधान के सेक्युलर होने अथवा न होने, दोनों ही पक्षों में तर्क प्रस्तुत किये जाते रहे है और जाते रहेंगे। लेखक : मृत्युञ्जय ...
पूरा लेख पढ़ें

वैदिक साहित्य – 2

वैदिक साहित्य -1से आगे चेतना के स्तर अनुसार वेदों के मंत्र अपने कई अर्थ खोलते हैं। कतिपय विद्वानों की मान्यता है कि किसी श्रुति के छ: तक अर्थ भी किये जा सकते हैं - सोम चन्द्र भी है, वनस्पति भी है, सहस्रार से झरता प्रवाह भी। वेदों के कुछ  मंत्र ...
पूरा लेख पढ़ें

राष्ट्र की शक्ति पूजा: अपारंपरिक युद्ध एवं भारत के विशेष बल

विशेष बल ( Special Forces ) : सेना के विभिन्न अंगों से विशेष रूप से प्रशिक्षित सैनिकों के दल जिन्हें शत्रु की सीमा के भीतर किसी विशिष्ट प्रयोजन को पूर्ण करने हेतु नियुक्त किया जाता है। यशार्क पाण्डेय पहले भाग से आगे ... दन्तकथाओं के अनुसार एक बार मुग़ल बादशाह ...
पूरा लेख पढ़ें

पूर्ववर्ती:

पौष पूर्णिमाङ्क, 2073 वि., [वर्ष 1, अङ्क 0], गुरुवार

माघ अमावस्याङ्क, 2073 वि., [वर्ष 1, अङ्क 1], शुक्रवार

माघ पूर्णिमाङ्क, 2073 वि., [वर्ष 1, अङ्क 2], शुक्रवार

फाल्गुन अमावस्याङ्क, 2073 वि., [वर्ष 1 अङ्क 3], रविवार

फाल्गुन पूर्णिमाङ्क, 2073 वि., [वर्ष 1, अङ्क 4], रविवार

चैत्र अमावस्याङ्क, 2073 वि., [वर्ष-1, अङ्क 5], मङ्गलवार

चैत्र पूर्णिमाङ्क, 2074 वि., [वर्ष-2 अङ्क-6], मङ्गलवार

वैशाख अमावस्याङ्क, 2074 वि., [वर्ष-2 अङ्क-7], बुधवार

वैशाख पूर्णिमाङ्क, 2074 वि., [वर्ष-2, अङ्क-8], गुरुवार


‘मघा’ पाठकों की भावनाओं के साथ-साथ लेखकों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के आदर का भी मञ्च है। यहाँ प्रकाशित रचनाओं में अभिव्यक्त विचार सम्बंधित लेखकों के व्यक्तिगत विचार हैं। सम्पादक मण्डल का इनसे सहमत होना आवश्यक नहीं है और न ही वे इसके लिये उत्तरदायी ठहराये जा सकते हैं।

With due respect to feelings and sensitivities of our readers, ‘Maghaa’ believes in freedom of expression. The authors are responsible for the ideas expressed in the articles. ‘Maghaa’ editorial board may not endorse those and cannot be held responsible of the same.

<a

इस लेख को साझा करने के लिए संक्षिप्त URL: