बीज माता राहीबाई Tiny Lamp लघु दीप – 24

विडंबना ही है की सरकार प्रत्येक वर्ष लाखों के अंशदान नवीन शोधार्थियों को देती है परन्तु जो कार्य उनमें से किसी को करना चाहिए वह कार्य एक साधारण किसान स्त्री कर लेती है वह भी किसी प्रायोजित धन के। कुछ दिवस पूर्व ही वृक्ष माता सालूमरदा थिमक्का को पद्मश्री मिला है।

vivekanand

जननिर्णय निर्भय बल विश्वास अनूप

इस बार का निर्णय ग्रामीण भारत का, गँवई भारत का भावुक निर्णय नहीं, मुक्त हो, सचैतन्य आगे बढ़ कर सशक्तीकरण की दिशा में लिया गया निर्णय रहा।

प्रकृति के सान्निध्य से मनोवैज्ञानिक लाभ

वन-वृक्ष-नदी-पर्वत का साधना से क्या सम्बन्ध ? ग्रंथ, ऋषि वाणियाँ प्रकृति वर्णन से क्यों भरे पड़े है? वनों में ऐसा क्या प्राप्त हो जाता है जो सामान्य नगरों में नहीं मिलता?

Greater Painted Snipe ओहारी। मादा (बैठे हुए), नर (खड़े हुए) चित्र सर्वाधिकार: आजाद सिंह, © Ajad Singh, सरयू आर्द्र भूमि, माझा, अयोध्या, फैजाबाद, उत्तर प्रदेश, May 21, 2019

Greater Painted Snipe ओहारी

Greater Painted Snipe ओहारी, इस पक्षी की आँखें बहुत सुन्दर होती हैं। कहते हैं कि चण्ड अशोक के पुत्र कुणाल का नाम इस पक्षी की सुन्दर आँखों से समता के कारण पड़ा था, जिन्हें उसकी विमाता ने कामद्वेष वश निकलवा लिया था।

NCERT Books रा.शै.अ.प. की पुस्तकें – 1 : कक्षा प्रथम की रिमझिम

NCERT Books समीक्षा करेंगे, देखेंगे कि सुधार अपेक्षित हैं या नहीं? घर के गणेश जी फेंक दिये जायँ तथा लॉफिंग मॉङ्क को ला कर कहा जाय कि हम समृद्ध हो रहे हैं!    

Paradox of Choices, craving of best, seek of happiness

Maximiser vs Satisficer सर्वोत्तम की चाहना, विकल्प एवं सुख

Maximiser Vs Satisficer, मनोवैज्ञानकों ने निर्णय लेने के आधार पर व्यक्तित्व का वर्गीकरण दो सरल रूपों में किया है – एक वे जो प्रत्येक निर्णय को इस प्रकार लेने का प्रयत्न करते हैं जिससे उन्हें अधिकतम लाभ मिले (maximiser), इन व्यक्तियों को अपने निर्णयों के पूर्णत: दोषमुक्त (perfect) होने चिंता बनी रहती है। और दूसरे वे जो अपने निर्णयों से प्रायः संतुष्ट होते हैं।